Responsive Ads Here

बुधवार, जून 13, 2018

GDPR Kya Hai? GDPR क्या है?

GDPR क्या है? ये क्यों बनाया गया है? इसका इस्तेमाल किस तरह से कर सकते है? इसके अंतर्गत कोनसी सुविधा प्रदान होती है? जो  भी ऑनलाइन काम करते है या फिर जो नए पुराने ब्लॉग्गिंग के क्षेत्र में काम करते है उनके लिए इन सरे सवालो का जवाब जानना बहुत जरुरी है. तो चाहिए इन सारे टॉपिक के बारे में जानते है.

GDPR क्या है?
GDPR Kya Hai? GDPR क्या है?
GDPR Kya Hai?


GDPR का full form है (General Data Protection Regulation) ये एक यूरोप में बनाया गया नया कानून हे जिसको इसलिए बनाया गया है ताकि हम जो इंटरनेट सेवा ले रहे है उसको नियंत्रण में रखा जा सके और हम जिस भी Online कंपनी को अपनी Information देते है जैसे की अपना नाम, E-mail ID, मोबाइल नंबर इन सारे Data पर नजर राखी जा सके.


हम सबको पता है कुछ महीने पाहिले फेसबुक ने लोगो के डाटा को लीक करने की खबर काफी आयी थी और इस ख़राब के चाहते काफी हड़कंप मच गया था और लोगो को अपने डाटा की काफी चिंता बजी हो रही थी. कुछ तो ऐसे मोबाइल Application, Website थी जो Users के Data को Sell भी करती थी.
जब ये बात सामने आयी तो सरे लोग चिंता करने लगे अपने Privacy के बारे में, तब EU यानि European Union अपने पुराने Law जोकि 1995 में बनाया गया था उसमे बदलाव करके GDPR लाया गया जोकि 25 May 2018 से लागु कराया गया.

Rights to Users

     1) Right to be forgotten

इस का इस्तेमाल से अगर आपको लगता है की आपका Data किसी भी कंपनी के Server  में Save न रहे तो आप इस Erase करवा सकते हे यानि की कंपनी की Server से या Storage से Delete  करवा सकते है. इसके लिए आपको कंपनी को कांटेक्ट करना पड़ेगा और उन्हें बताना पड़ेगा की आपका डाटा डिलीट कराये ऐसे में Company को डिलीट करना ही पड़ेगा.

     2) Data Access

इसके तहत आप ये कर सकते है की जो  भी कंपनी के पास आपका Data है उन्हें आप पूरी Details मांग सकते हे यानि की उनके पास आपका कोनसा-कोनसा Data है, वो यव डाटा किस तरह से उसे में ला रहे है ये सारी जानकारी कंपनी से ले सकते है.

     3) Right to object

अगर अपने किसी कंपनी को अपना Personal Data दिया है और उन्हें कहेंगे की आपका Data किसी भी काम या Advertising के लिए उसे न करे तो उन्हें वो कह सकते है. लेकिन अगर शुरू में अपने उनके Terms & Conditions को Accept कर लिया है तो वो उसको उसे भी कर सकते है. इसलिए पुरे Terms & Conditions पढ़ ले.

     4) Rectification

इसके आपको ये प्राधन्य मिलता है की अगर आपको लगता है की किसी कंपनी के पास आपका गलत Data चला गया हे तो आप उसे Correct भी कर सकते है.

     5) Portability

इसमें आपको अपने डाटा को Port करने का भी Option मिल जाता है. इससे आप एक जगह से दूरसे जगह Port कर सकते है.

GDPR के तहत आपको ये सारे Rights मिलते है आप इन सभी का इस्तेमाल कर सकते है, लेकिन कंपनी ने ये Proof कर दिया की अपने उनके Terms And Conditions को accept किया Data Use के लिए तो आप कुछ नहीं कर सकेंगे इसलिए सभी चीज़े ध्यान से पढ़ाई.


Benefits from this- किसको फायदा होगा? 


  •     इससे सरे Internet Users को फायदा होगा क्युकी Data तो आपका ही है और आपके data का Misuse होने से बचेगा, इसलिए ही ये GDPR Law बनाया गया है.
  •     कोई भी कंपनी आपके इजाजत के बगैर आपका डाटा Sell नहीं कर सकेगी.
  •     सबसे ज्यादा E-mail Data बेचा जाता है, इससे आपको Spam E-mail नयी आएंगे.
  •     जब भी कोई कंपनी आपसे आपका Personal Data मांगेगा तो उनको ये बताना पड़ेगा की वो ये Data क्यों ले रहे है और इसका उसे किस तरह से करेंगे. इससे आपको अपने Privacy की जानकारी मिलती रहेगी.


उम्मीद करता हु की आपके सारे सवाल का जवाब मिल गया है. GDPR क्या है? GDPR के फायदे? अगर इससे रिलेटेड आपको कोई सवाल है तो Comment में बता सकते है.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें